Header Ad

Post AD Top

Advertisement

फिल्म में नहीं दिखेंगी संजय दत्त की जिंदगी से जुडी ये 5 बड़ी घटनाएँ, जानने के लिए पढ़े


संजय दत्त की बायोपिक संजू देश के सभी सिनेमाघरों में रिलीज़ हो चुकी है. लोगो के द्वारा इस फिल्म को जबरदस्त रेस्पोंसे मिला है. फिल्म के रिव्यु भी काफी अच्छे गए है. यह पिछले 15 साल में राजकुमार हिरानी की 5वीं फिल्म है. फिल्म में संजय दत्त की ज़िन्दगी से जुड़े हर पहले पर इस फिल्म में चर्चा की गई है. लेकिन फिर भी संजय दत्त की 58 साल की ज़िन्दगी को 3 घंटे की फिल्म में दिखाना आसान नही है. हम आपको संजय दत्त की ज़िन्दगी से जुडी वो 5 घटनाएँ बताने जा रहे है जिनके इस फिल्म में नहीं दिखाया गया है. तो आइये जानते है संजय दत्त की ज़िन्दगी के कुछ अनछुए पहलु.


पहला किस्सा संजय दत्त के स्कूल के समय का है. संजय दत्त को उनके पिता ने अनुशाशित करने के लिए बोर्डिंग स्कूल में डाल दिया था. बोर्डिंग स्कूल में भेजने से संजय दत्त अपने पिता से बहुत नाराज थे. लेकिन उनकी माँ अक्सर उनसे मिलती थी और उन्हें संभालती थी. दरअसल संजय दत्त को एक बार उनके पापा ने सिगरेट पीते पकड़ लिया था, जिसके बाद उन्हें बोर्डिंग स्कूल भेज दिया गया था.


साल 1987 में संजय ने ऋचा शर्मा से शादी की थी, जिनसे उन्हें त्रिशाला नाम की एक बेटी हुई. लेकिन ऋचा को कैंसर हो गया और 1996 में कैंसर से ही उनक मौत हो गई. जब संजय का जीवन मां नर्गिस की मौत के बाद पटरी पर लौट रहा था, ये सब हो गया. संजय फिर सिरे से टूट गए. कुछ दिनों तक अमेरिका में रहने के बाद वे वापस इंडिया आ गए. लेकिन उनकी बेटी अपने पिता से दूर हो गई. एक समय माधुरी दीक्षित और उनका अफेयर चरम पर था लेकिन मुंबई बम ब्लास्ट में नाम आने के बाद मधुर ने सब ख़त्म कर दिया. लेकिन उनकी गर्लफ्रेंड रिया पिल्लई जेल के दिनों में भी उनका साथ देती रही. संजय दत्त जेल से बाहर आये तो रिया उनके साथ थी. संजय ने उने वैलेंटाइन डे के दिन प्रोपज किया था. लेकिन वे भी अलग हो गई. जब संजय ने मान्यता दत्त से शादी की थी तो उनकी बहाने भी शादी में शरीक नही हुई. संजय का अपार्टमेंट से फूल माला और मान्यता के साथ बाहर आना ये सब का सब  फिल्म से गायब है.


संजय दत्त के पिता सुनील दत्त कांग्रेस के एक बड़े नेता था. लेकिन जब संजय दत्त बम ब्लास्ट केस में फंसे तो कांग्रेस उनकी कोई मदद नही कर पाई. क्यूंकि उस समय केंद्र मी कांग्रेस की सरकार नहीं थी. संजय दत्त के पिता कांग्रेस के होने की वजह से शरू से ही बाल ठाकरे का विरोध कर रहे थे. उन्होंने उनके खिलाफ बाबरी मस्जिद और दंगो के कई आरोप लगाये थे. लेकिन मजबूरी में सुनील दत्त बाल ठाकरे के पास गए और बाल ठाकरे ने ही उनकी मदद की. बाल ठाकरे संजय के पक्ष में सामना में लेख आए और माहौल बदलने लगा. उनके ऊपर से देशद्रोही और आतंकवादियों के मददगार वाले टैग हटने लगे. फिर राज्य में सरकार भी शिवसेना-भाजपा की आ गई. जमानत मिलने के बाद संजय दत्त अपने पिता के साथ ठाकरे के घर मातोश्री पहुंचे. और उनकी बाल ठाकरे के सामने सर झुकाए एक तस्वीर भी सामने आई.


फिल्म रॉकी से डेब्यू करने के बाद संजय दत्त नशे के आदि हो गए. लम्बे समय तक इलाज करने के बाद वह फिल्म इंडस्ट्री में वापस आये लेकिन कोई उनके काम नही देना चाहता था. क्यूँ संजय तक भी नशे के आदि थे और कोई भी उनके साथ काम करके रिस्क नही लेना चाहता था. नशे की वजह से उनके कई प्रोजेक्ट्स भी अटके थे. लेकिन इसके बाद उन्हें फिल्म ‘नाम’ मिली और ये बड़ी हिट साबित हुई. इसके बाद संजय कुछ हिट फिल्मे देते रहे. लेकिन तब भी ये इतने बड़े स्टार नही बन पाए थे. लेकिन संजय को बाद के दिनों में राजकुमार हिरानी मिले. और वह कल्ट सीन भी, जिसमें वह अपने पिता सुनील दत्त को गले लगाते हैं. गले लगाना वाला सीन ‘संजू’ में आया, मगर एक्टर संजय दत्त का शुरुआती फेज मिसिंग था.


हर मुश्किल में अपने बेटे के साथ खड़े रहने वाले कांग्रेस एमपी सुनील दत्त की 2005 में 76 साल उम्र में डेथ हो गई थी. संजू में उसके कुछ शेड्स दिखे. मोटे तौर पर तीन. एक नशे और बाप के कंट्रोल से जूझता संजय दत्त. दूसरा, मुंबई ब्लास्ट के बाद का संजय दत्त. तीसरा हीरो संजय दत्त की वापसी. फिल्मी पर्दे पर और जेल से बाहर आम जिंदगी में भी. पर ये नाकाफी हैं. ये पहले से पता हैं. ये अतिशय भावुकता से भरे हैं. ये संजय दत्त के दोस्त राजकुमार हिरानी की फिल्म का हिस्सा हैं.

credits: zimbio
फिल्म में नहीं दिखेंगी संजय दत्त की जिंदगी से जुडी ये 5 बड़ी घटनाएँ, जानने के लिए पढ़े फिल्म में नहीं दिखेंगी संजय दत्त की जिंदगी से जुडी ये 5 बड़ी घटनाएँ, जानने के लिए पढ़े Reviewed by bollykeeda on 10:29 AM Rating: 5

No comments

Post AD

Post AD

Advertisement